Navratri 2020: नवरात्रि में जरूर पढ़ें Maa Ambey Ki Aarti समेत माता रानी की ये आरतियां, मिलेगी मां की कृपा

Maa Durga Aarti, Navratri 2020: नवरात्रि आज यानी 17 अक्टूबर से शुरू हो गई है, नवरात्रि में भक्त माता रानी की पूजा आराधना करते हैं। नवरात्रि के दौरान लोग हर कोई मां दुर्गा के Navratri Bhakti Songs को सुनना चाहता है। भजनों से भक्तों का मन उल्लास से भर उठता है।

भजन सुनने के अलावा भक्त Maa Durga Ki Aarti पढ़ते हैं, ऐसे माना गया है की आरती के पढ़ने के बाद ही पूजा संपन्न होती है और यदि आरती ही गलत पढ़ ली तो पूजा का फल भी नहीं मिलता। कहा जाता है की हमेशा आरती सही से पढ़ें। माता रानी की बहुत ही प्रसिद्ध है ये आरती। ऐसा कहा गया है की इस आरती से माता महाकाली प्रसन्न होती हैं।

Navratri 2020: Maa Ambey Ki Aarti/ Maa Durga Aarti

जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति। तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी॥
जय अम्बे गौरी…॥ मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को। उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको॥
जय अम्बे गौरी…॥ कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै। रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै॥
जय अम्बे गौरी…॥ केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी। सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी॥
जय अम्बे गौरी…॥ कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती। कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति॥
जय अम्बे गौरी…॥ शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती। धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती॥
जय अम्बे गौरी…॥ चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू। बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू॥
जय अम्बे गौरी…॥ भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी। मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी॥
जय अम्बे गौरी…॥ कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती। श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति॥
जय अम्बे गौरी…॥ श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै। कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै॥ जय अम्बे गौरी…॥

Also Read: Sharadiya Navratri 2020: सिर्फ प्याज-लहसुन ही नहीं, नवरात्रि में नहीं करना चाहिए इन चीजों का सेवन

 

Navratri 2020: Kali Mata Ki Aarti

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेर ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ।

तेर भक्त जानो पर मैया भीड़ पड़ी है भारी, दानव दल पर टूट पड़ो माँ कर के सिंह सवारी ।
सो सो सिंघो से है बलशाली, है दस भुजाओं वाली, दुखिओं के दुखड़े निवारती ।

माँ बेटे की है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता, पूत कपूत सुने है पर ना माता सुनी कुमाता ।
सबपे करुना बरसाने वाली, अमृत बरसाने वाली, दुखिओं के दुखड़े निवारती ।

नहीं मांगते धन और दौलत ना चांदी ना सोना, हम तो मांगे माँ तेरे मन में एक छोटा सा कोना ।
सब की बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली, सतिओं के सत को सवारती ।

Also Read: Vrat Tyohar in October 2020 List: इस महीने Shardiya Navratri 2020 समेत हैं कौन-कौन से व्रत और त्योहार, यहां देखिए पूरी लिस्ट

Share this!!

Rahul Sharma

News Updates is a platform where you find stuff related to Politics, Bollywood, Religion, Tech & Gadgets, Lifestyle, Education, Gallery & more... so stay updated with latest news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *