Santoshi Mata Vrat Puja Vidhi: व्रत रखने वाले मां के भक्तों को रखना चाहिए इन बातों का खास ख्याल

Santoshi Mata Vrat Puja Vidhi: शुक्रवार को मां संतोषी का दिन होता है और कहा गया है की यदि कोई व्यक्ति सच्चे मन से मां संतोषी का व्रत करता है तो माता का हाथ हमेशा अपने भक्तों पर बना रहता है। धार्मिक मान्यता है की शुक्रवार के दिन मां संतोषी (Maa Santoshi) की विधि-विधान से पूजा करनी चाहिए और इस दिन व्रत का भी विशेष महत्व है।

जो भी व्यक्ति मां को याद कर 16 शुक्रवार का व्रत करता है माता अपने भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं। इतना ही नहीं, सभी कष्ट भी दूर होते हैं। यहां ध्यान देने वाली बात यह है की बिना कथा पढ़े मां संतोषी माता का व्रत (Santoshi Mata Vrat) पूरा नहीं होता है। मां संतोषी व्रत कैसे करें यहां जानें और कौन सी बातों का रखें खास ख्याल आइए आपको विस्तार से जानकारी देते हैं।

Santoshi Mata Vrat Puja Vidhi: इस तरह करें संतोषी माता का व्रत

1) सुबह जल्दी उठकर घर की साफ-सफाई, स्नान आदि से निवृत हो जाएं।
2) घर के मंदिर में मां संतोषी की मूर्ति या फिर चित्र को लगाएं।
3) मूर्ति या फिर चित्र लगाने के बाद पूजा की सभी सामाग्री रखें। इसके अलावा एक बड़ा बर्तन लीजिए और इसमें शुद्ध जल भरकर रखिए।
4) जिस बर्तन में आपने जल रखा है उसके ऊपर दूसरा बर्तन रखिए जिसमें गुड़ और चना हो।
5) विधि-विधान से पूजा कर मां का स्मरण कीजिए।
6) गौर करने वाली बात यह है की जिस वक्त आरती या फिर मां की स्तुति कर रहे हों तो कपूर और घी का दीपक जलते रहना चाहिए।
7) Maa Santoshi की आरती पूरी करने के बाद सभी में गुड़-चने का प्रसाद बांटे और खुद भी प्रसाद को ग्रहण करें।
8) जिस बर्तन में जल भरा है उसे घर में माता संतोषी का नाम लेकर छिड़क दीजिए औप जो जल बच जाए वह मां तुलसी (Tulsi Ji) के पौधे में डाल दीजिए।
9) सच्चे मन से मां संतोषी का व्रत और कथा 16 शुक्रवार जरूर करें।

Santoshi Mata Vrat Puja Vidhi
Santoshi Mata Vrat Puja: जानें कैसे करें व्रत

Santoshi Mata Vrat Puja Vidhi: रखें इन बातों का खास ख्याल

1) व्रत के समय ये बात खासतौर से याद रखनी है की किसी खट्टी चीज न तो खाएं और न ही स्पर्श करें।
2) चने और गुड़ा का प्रसाद जरूर खाएं।
3) आपका व्रत हो तो घर में कोई भी व्यक्ति खट्टी चीज का सेवन ना करें।

ये भी पढ़ें- Ganpati Bappa Names in Hindi: यहां जानें Ganesh Ji के 12 नाम और उनका महत्व, पढ़ें आरती

Maa Santoshi Ki Aarti: संतोषी माता की आरती

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता।। जय सन्तोषी माता…
सुन्दर चीर सुनहरी मां धारण कीन्हो। हीरा पन्ना दमके तन श्रृंगार लीन्हो ।।जय सन्तोषी माता…
गेरू लाल छटा छबि बदन कमल सोहे। मंद हंसत करुणामयी त्रिभुवन जन मोहे ।।जय सन्तोषी माता…
स्वर्ण सिंहासन बैठी चंवर दुरे प्यारे। धूप, दीप, मधु, मेवा, भोज धरे न्यारे।।जय सन्तोषी माता…
गुड़ अरु चना परम प्रिय ता में संतोष कियो। संतोषी कहलाई भक्तन वैभव दियो।।जय सन्तोषी माता…
शुक्रवार प्रिय मानत आज दिवस सोही। भक्त मंडली छाई कथा सुनत मोही।।जय सन्तोषी माता…
मंदिर जग मग ज्योति मंगल ध्वनि छाई। बिनय करें हम सेवक चरनन सिर नाई।।जय सन्तोषी माता…
भक्ति भावमय पूजा अंगीकृत कीजै। जो मन बसे हमारे इच्छित फल दीजै।। जय सन्तोषी माता…
दुखी दारिद्री रोगी संकट मुक्त किए। बहु धन धान्य भरे घर सुख सौभाग्य दिए।। जय सन्तोषी माता…
ध्यान धरे जो तेरा वांछित फल पायो। पूजा कथा श्रवण कर घर आनन्द आयो।।जय सन्तोषी माता…
चरण गहे की लज्जा रखियो जगदम्बे। संकट तू ही निवारे दयामयी अम्बे।। जय सन्तोषी माता…
सन्तोषी माता की आरती जो कोई जन गावे। रिद्धि सिद्धि सुख सम्पति जी भर के पावे।। जय सन्तोषी माता….

ये भी पढ़ें- Bajarang Baan ka Path: बजरंग बाण के पाठ से दूर होते हैं ये 6 तरह के कष्ट, मिलती है Hanuman Ji की कृपा

Share this!!

Rahul Sharma

News Updates is a platform where you find stuff related to Politics, Bollywood, Religion, Tech & Gadgets, Lifestyle, Education, Gallery & more... so stay updated with latest news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *