Shani Dev Puja Vidhi in Hindi: जानें, पूजा विधि, भक्त रखें इन बातों का ख्याल, पढ़ें Shani Chalisa भी

Shani dev Puja vidhi in hindi: शनि देव जी को कर्म और न्याय का देवता माना गया है। Shani Dev जी व्यक्ति को उसके अच्छे और बुरे कामों के अनुसार ही फल देते हैं। यदि शनि देव किसी से खुश नहीं है तो उसके जीवन में कठिनाइयां और कष्ट आने लगते हैं। हर दिन जैसा की हम जानते हैं किसी ना किसी देवी-देवता की पूजा की जाती है। शनिवार को शनि देव की पूजा करते हैं और इस दिन यदि किसी अपाहिज या गरीब की धन या फिर अन्य किसी चीज से सहायता करते हैं तो ऐसे में शनिदेव के प्रतिकूल प्रभाव को कम किया जा सकता है।

Shani dev Puja vidhi in hindi: पूजा विधि

1) प्रत्येक शनिवार के दिन मंदिर में शनि देव के सामने सरसों के तेल का दीपक जरूर जगाएं।
2) घर के समीप यदि शनिदेव जी का मंदिर नहीं है तो पीपल के पेड़ के नीचे दिया जलाएं।
3) दिये के अलावा शनि महाराज को काली उड़द और कालु वस्तु भेंट कीजिए।
4) भेंट चढ़ाने के बाद शनि चालीसा जरूर पढ़ें।
5) शनिदेव जी की पूजा के बाद हनुमान जी (Hanuman Ji Puja) जरूर करें। मूर्ति पर सिंदूर लगाएं।
6) इसके बाद शनि देव मंत्र ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम: पढ़ें।

Shani dev Puja vidhi in hindi: पूजा के समय बरतें ये सावधानियां

1) शनि महाराज की पूजा सूर्योदय से पहले या तो फिर सूर्यास्त के बाद करें।
2) शनि महाराज की पूजा में सरसों के तेल या फिर तिल के तेल का ही प्रयोग किया जाता है।
3) हमेशा शांत मन से करें शनिदेव की पूजा।

दोहा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल। दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥
जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज। करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥

Shani Chalisa in Hindi

जयति जयति शनिदेव दयाला। करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥
चारि भुजा, तनु श्याम विराजै। माथे रतन मुकुट छबि छाजै॥
परम विशाल मनोहर भाला। टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला॥
कुण्डल श्रवण चमाचम चमके। हिय माल मुक्तन मणि दमके॥
कर में गदा त्रिशूल कुठारा। पल बिच करैं अरिहिं संहारा॥

पिंगल, कृष्णो, छाया नन्दन। यम, कोणस्थ, रौद्र, दुखभंजन॥
सौरी, मन्द, शनी, दश नामा। भानु पुत्र पूजहिं सब कामा॥
जा पर प्रभु प्रसन्न ह्वैं जाहीं। रंकहुँ राव करैं क्षण माहीं॥
पर्वतहू तृण होई निहारत। तृणहू को पर्वत करि डारत॥

राज मिलत बन रामहिं दीन्हयो। कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो॥
बनहूँ में मृग कपट दिखाई। मातु जानकी गई चुराई॥
लखनहिं शक्ति विकल करिडारा। मचिगा दल में हाहाकारा॥
रावण की गति-मति बौराई। रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई॥
दियो कीट करि कंचन लंका। बजि बजरंग बीर की डंका॥
नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा। चित्र मयूर निगलि गै हारा॥
हार नौलखा लाग्यो चोरी। हाथ पैर डरवायो तोरी॥
भारी दशा निकृष्ट दिखायो। तेलिहिं घर कोल्हू चलवायो॥
विनय राग दीपक महं कीन्हयों। तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों॥

Shani dev Puja vidhi in hindi
Shani dev Puja vidhi in hindi: जानें पूजा विधि

हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी। आपहुं भरे डोम घर पानी॥
तैसे नल पर दशा सिरानी। भूंजी-मीन कूद गई पानी॥
श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई। पारवती को सती कराई॥
तनिक विलोकत ही करि रीसा। नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा॥
पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी। बची द्रौपदी होति उघारी॥
कौरव के भी गति मति मारयो। युद्ध महाभारत करि डारयो॥
रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला। लेकर कूदि परयो पाताला॥
शेष देव-लखि विनती लाई। रवि को मुख ते दियो छुड़ाई॥

ये भी पढ़ें- Santoshi Mata Vrat Puja Vidhi: व्रत रखने वाले मां के भक्तों को रखना चाहिए इन बातों का खास ख्याल

वाहन प्रभु के सात सुजाना। जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना॥
जम्बुक सिंह आदि नख धारी। सो फल ज्योतिष कहत पुकारी॥
गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं। हय ते सुख सम्पति उपजावैं॥
गर्दभ हानि करै बहु काजा। सिंह सिद्धकर राज समाजा॥
जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै। मृग दे कष्ट प्राण संहारै॥
जब आवहिं प्रभु स्वान सवारी। चोरी आदि होय डर भारी॥
तैसहि चारि चरण यह नामा। स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा॥
लौह चरण पर जब प्रभु आवैं। धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं॥
समता ताम्र रजत शुभकारी। स्वर्ण सर्व सर्व सुख मंगल कारी॥

जो यह शनि चरित्र नित गावै। कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै॥
अद्भुत नाथ दिखावैं लीला। करैं शत्रु के नशि बलि ढीला॥
जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई। विधिवत शनि ग्रह शांति कराई॥
पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत। दीप दान दै बहु सुख पावत॥
कहत राम सुन्दर प्रभु दासा। शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा॥

दोहा

पाठ शनिश्चर देव को, की हों ‘भक्त’ तैयार। करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार॥

शनि चालीसा के लाभ

शनिवार के दिन यदि कोई व्यक्ति शनि मंदिर में श्री शनि चालीसा का श्रद्धा पूर्वक पाठ करता है तो व्यक्ति शनि देव से जिस भी चीज की कामना करता है वह उसे मिलने लगती है और साथ ही कष्ट भी दूर होने लगते हैं।

ये भी पढ़ें- Ganpati Bappa Names in Hindi: यहां जानें Ganesh Ji के 12 नाम और उनका महत्व, पढ़ें आरती

Share this!!

Rahul Sharma

News Updates is a platform where you find stuff related to Politics, Bollywood, Religion, Tech & Gadgets, Lifestyle, Education, Gallery & more... so stay updated with latest news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *