Vishwakarma Puja 2020: कब है विश्वकर्मा पूजा? साथ ही जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Vishwakarma Puja 2020: क्या आप जानते हैं की हर वर्ष आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को ऋषि विश्वकर्मा की पूजा करते हैं। यही वज़ह है की इस दिन को Vishwakarma Day भी कहा जाता है। हम आज आपको अपने इस लेख के माध्यम से इस विषय में जानकारी देंगे की इस वर्ष विश्वकर्मा पूजा किस तारीख को है, क्या है विश्वकर्मा पूजा विधि और शुभ मुहूर्त। आज आपको इन सभी सवालों के जवाब देंगे।

Vishwakarma Puja Date 2020

जैसा की हमने आपको बताया की विश्वकर्मा पूजा इस वर्ष 16 सितंबर को है, आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें की इस दिन भगवान विष्णु, ऋषि विश्वकर्मा और औजारों की पूजा होती है।

बता दें की विश्वकर्मा जी को महान शिल्पकार कहा जाता है, ऐसा माना गया है कि शिव जी का त्रिशूल और भगवान विष्णु का सुदर्शन चक्र भी विश्वकर्मा जी ने बनाया था। ऐसा कहा जाता है की कईं देवी-देवताओं के लिए अस्त्र-शस्त्र का निर्माण किया था।

माना जाता है कि भगवान शिव के लिए लंका में सोने के महल का निर्माण भी विश्वकर्मा जी ने ही किया था। जिसे लालच की वजह से लंकापति रावण ने महल की पूजा करने की दक्षिणा के रूप में ले लिया था।

Vishwakarma Puja Shubh Muhurat 2020

चतुर्दशी तिथि आरंभ होने का समय 15 सितंबर रात 11:01 बजे से चतुर्दशी तिथि समाप्त होने का समय 16 सितंबर शाम 07:56 बजे तक है।

चतुर्दशी पूजा शुभ मुहूर्त का समय और तारीख कुछ इस प्रकार है, 16 सितंबर सुबह 10:09 बजे से सुबह 11:37 बजे तक।

Vishwakarma Puja Vidhi

सुबह जल्दी उठकर नहाएं और फिर स्वच्छ या कह लीजिए की साफ कपड़े पहनें। घर के शस्त्रों, अस्त्रों, वाहन और मशीनों को धोकर तिलक करें। एक चौकी लें और फिर इसपर लाल कपड़ा बिछा दें।

ये भी पढ़ें- Surya Dev: जीवन की हर परेशानी दूर करेगें सूर्य देव , इन उपायों से होगी धन की बरसात

इसके बाद आपको विष्णु जी और विश्वकर्मा जी का चित्र या कह लीजिए प्रतिमा को विराजित करना होगा। इसके बाद भगवान विष्णु और विश्वकर्मा जी के माथे पर कुमकुम का तिलक जरूर लगाएं।

अबीर, अक्षत, मेहंदी, गुलाल, वस्त्र, फूल और कलावा को अर्पित करें। एक दीप, धूप और अगरबत्ती जलाएं। आटे की रंगोली बनाकर इस रंगोली पर 7 तरह का अनाज रखें। इसके बाद एक लौटे में जल भरकर रंगोली पर रखें।

इसके बाद आपको विष्णु जी और विश्वकर्मा जी की आरती करनी है। आरती करने के बाद भगवान विष्णु और विश्वकर्मा जी को भोग लगाएं और फिर सभी में प्रसाद बांटें।

Share this!!

Rahul Sharma

News Updates is a platform where you find stuff related to Politics, Bollywood, Religion, Tech & Gadgets, Lifestyle, Education, Gallery & more... so stay updated with latest news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *