कहीं रेपिस्ट को दी जाती है फांसी तो कहीं बरसाए जाते हैं पत्थऱ.. जानिए किन देशों में क्या है रेप की सजा

16 दिसंबर 2012 में दिल्ली की सड़कों पर निर्भया का गैंगरेप (nirbhaya gang rape) किया गया था। इसके बाद हवसियों ने निर्भया के साथ और भी घिनौनी हरकतें की थी। भले अब निर्भया के दोषियों को फांसी मिल गई है। लेकिन अब भी देश में हर रोज कई निर्भया जिंदगी से हार रही हैं। हर रोज मनचले अपनी हवस का शिकार मासूमों को बना रहे हैं। दुधमुही बच्ची से लेकर एक बुजुर्ग महिला तक को हवसी नहीं छोड़ रहे हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप (hathras gang rape) की एक ऐसी घटना सामने आई जिसने हर किसी को हैरान कर दिया है।

हाथरथ में गैंगरेप (gang rape) के बाद लड़की के साथ मारपीट की गई उसकी जीभ काट दी गई। 29 सितंबर को अब लड़की ने अंतिम सांस ली है। इस घटना के बाद से एक बार फिर से लोगों ने अंदर गुस्सा देखने को मिल रहा है। लोग अपराधियों ( criminals) के लिए फांसी की मांग कर रहे हैं। आइए जानते हैं अमेरिका से लेकर रूस आद‍ि देशों में फांसी की सजा का क्या प्रावधान है-

आइए दूसरे देशों के जानें प्रावधान

भारत में बलात्कारियों (Rapists)के लिए फांसी का प्रावधान है। लेकिन फांसी मिलने में भी सालों लग जाती हैं। दुनिया में कई ऐसे देश भी हैं जहां रेपस्टि को कड़ी सजा दी जाती है।राक में भी रेपिस्ट को सजा-ए-मौत दी जाती है। कहते हैं यहां पत्थर मार मार के अपराधी को सजा दी जाती है।

जबकि अमेरिका का फेडरल लॉ “बलात्कार” या रेप शब्द का इस्तेमाल नहीं करता है। अमेरिका का कानून बिना मर्जी के यौन कर्म करने का अपराध मानता है।यहां के कानून में अमेरिका कोड (18 यू.एस.सी.। 2241-224) के चेप्टर 109 ए के तहत समूहीकृत किया गया है। यहां सजा जुर्माना से लेकर आजीवन कारावास तक हो सकती है

पाकिस्तान (pakistan)में भी रेप को सबसे बड़ा अपराध माना जाता है। यहां भी बलात्कारी को सजा ए मौत की सजा दी जाती है। पाकिस्तान में हुदूद अध्यादेश में ज़िनाह अल-जब्र (बलात्कार) कानून के अनुसार गैंग रेप में मौत की सजा दी जाती है।

उत्तर कोरिया में भी रेप पर सख्त नियम हैं। कहा जाता है कि यहां रेपिस्ट को सरेआम सिर में कई गोलियां मारी जाती हैं। जबकि UAE के कानून के अनुसार बलात्कारी को एक हफ्ते के भीतर ही फांसी दे दी जाती है।

Share this!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *