Swachh Survekshan 2020-पटना निकला सर्वे में सबसे गंदा शहर तो लालू प्रसाद ने कसा तंज, ‘का हो नीतीश-सुशील, इसका दोष हमें…’

Swachh Survekshan 2020-केंद्र सरकार ने हाल ही में स्वच्छता सर्वेक्षण (Swachh Survekshan 2020-_करवाया है। इस सर्वे के कुछ नतीजे चौंकाने वाले हैं। सर्वे के नतीजों में पटना (Patna)10 लाख और सबसे गंदे शहरों की लिस्ट में सबसे लास्ट में रहा है। इस सर्वे में बिहार के शहरों की हालत नाजुक ही नजर आई। बिहार राज्य की रैंकिंग देखकर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार(nitish kumar) और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी पर जमकर निशाना साधा है।

लालू (lalu prasad) ने CM पर जमकर तंज कसा है। शुक्रवार (21 अगस्त) को किए अपने ट्वीट में लालू प्रसाद यादव ने तंज करते हुए लिखा, क्या नीतीश और सुशील इसके लिए हमें ही जिम्मेदार ठहराएंगे?

लालू प्रसाद यादव (lalu prasad yadav)ने अपने ट्वीट में स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 का एक डेटा शेयर करते हुए लिखा है कि का हो नीतीश-सुशील? इसका दोष हमें नहीं दोगे क्या? शर्म तो नहीं आ रही होगी इस कथित सुशासनी और विज्ञापनी सरकार के लोगों को??”


लालू प्रसाद के अलावा इस सर्वे के नजीतों को देखते हुए उनके बेटे और नेता तेजस्वी यादव (tejswi yada)ने भी नीतीश सरकार को आड़े हाथों लिया है। तेजस्वी ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि देश में पटना को गंदगी में नंबर-1 स्थान मिलने पर 15 वर्षों के माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को कोटि-कोटि बधाई। चलिए 15 वर्षों में कहीं तो नंबर-1 स्थान प्राप्त किया।


वहीं पटना आरजेडी (RJD Patna) के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी राज्य सरकार को निशाना बनाया गया है। ट्वीट करके लिखा गया है कि दस लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में पटना सबसे गंदा शहर! दस लाख से कम आबादी वाले शहरों में बिहार के 6 शहर! नीतीश कुमार और उनकी सरकार से कुछ नहीं सम्भल सकता! ना महामारी, ना बीमारी, ना बाढ़, ना गन्दगी और ना ही शिक्षा, स्वास्थ्य, पेय जल, पोषण, सड़क, नाले, जैसी मूल आवश्यकताएं!

स्वच्छ सर्वेक्षण 2020

केंद्र सरकार द्वारा करवाए गए स्वच्छ सर्वेक्षण में लगातार चौथी बार इंदौर भारत का सबसे साफ शहर बना है। दूसरे नंबर पर सूरत और तीसरे पर नवी मुंबई रहा है। वाराणसी को ‘गंगा किनारे बसा सबसे अच्छा शहर’ घोषित किया गया है। सौ से अधिक शहरी निकाय संस्था वाले राज्यों की श्रेणी में छत्तीसगढ़ को ‘सर्वाधिक स्वच्छ राज्य’ के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

सर्वेक्षण के मुताबिक 10 लाख से ज्यादा आबादी वाली शीर्ष दस शहर- इंदौर, सूरत, नवी मुंबई, विडयवाड़ा, अहमदाबाद, राजकोट, भोपाल, चंडीगढ़, जीवीएमएस विशाखापत्तनम और वडोदरा हैं। इनके अलावा लखनऊ को 12वां, गाजियाबाद को 19वां, प्रयागराज को 20वां, धनबाद को 33वां और फरीदाबाद को 38वां स्थान मिला है।

Share this!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *