सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुआ #BhagatSingh, इस खास अंदाज में लोगों ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह को दी श्रद्धांजलि

Bhagat Singh Jayanti: आज (28 सितंबर 2020 ) शहीद भगत सिंह की जयंती है। भगत सिंह भले आज हमारे बीच ना हों लेकिन उनकी वीरता के किस्से हर भारतवासी की जुबां पर हमेशा रहते हैं। शहीद भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर 1907 को लायलपुर में हुआ था। मजह 23 साल की उम्र में भगत सिंह देश के लिए फांसी चढ़ गए थे। भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को ब्रिटिश हुक्मरानों ने 23 मार्च 1931 को फांसी पर चढ़ा दिया था।

आज भगत सिंह की जयंकी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर सोमवार सुबह ही वीर को श्रद्धांजलि दी। ट्विटर पर जनता उन्हें सलाम कर रही है। हर कोई अलग अलग तरीके से भगत सिंह को सलाम कर रहा है।

भगत सिंह चढ़ गए थे सूली

1991 की अप्रैल को भगत सिंह परिवार के साथ अमृतसर के जलियांवाला बाग गए तो वहीं से हत्याकांड ने उनमें क्रांति के बीज बो दिए। भगत सिंह का बचपन लाहौर में बीता था। भगत सिंह पढ़ने लिखने का काफी शौक रखते थे। जब वह युवा हुए तो उनकी समाजवादी सोच जागी और देश हित के लिए संगठनों से जुड़े।

कहते हैं लाला लाजपत की मौत ने भगत सिंह को झकझोर दिया था और उन्होंने साथियों शिवराम राजगुरु, सुखदेव ठाकुर और चंद्रशेखर आजाद के साथ मिलकर लाठीचार्ज का आदेश देने वाले जेपी सांडर्स को गोली मारी।

भगत ने विराध जताने के लिए सेंट्रल लेजिस्लेटिव असेंबली में ऐसे स्थान पर बम फेंका, जहां कोई नहीं था। जिसके बाद 7 अक्टूबर 1930 को भगत सिंह को उनके साथियों के साथ सजा सुनाई गई थी। 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी पर चढ़ाया गया था।

Share this!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *